KYA LIKHUN MAIN

लिखने बैठूँ तो समझ ना आए क्या लिखूँ मैं ,

तेरी महफ़िल की शहनाई लिखूँ या अपनी महफ़िल की तन्हाई लिखूँ मैं ,
उम्र भर जो तू करता रहा इस जोकर से , वो वफ़ा लिखूँ या,
उस एक पल की बेवफ़ाई  लिखूँ मैं ,
होते देख बेगाना मुँह से निकली दुआ लिखूँ या दिल से निकली आह लिखूँ मैं।
लिखने बैठूँ तो समझ ना आए क्या लिखूँ मैं।

उस खुदा की कुदरत लिखूँ या इन्सान की फितरत लिखूँ मैं ,
जिसके बह गए सब ख्वाब पसीने में , उस गरीब की मेहनत लिखूँ या ,
किसी रईस बाप के बेटे की किस्मत लिखूँ मैं ,
अब बताओ उस की रहमत लिखूँ या फिर बेइन्साफ़ सज़ा लिखूँ मैं।
लिखने बैठूँ तो समझ ना आए क्या लिखूँ मैं।

देश में अर्थ-व्यवस्था की मार लिखूँ या विदेशी दौरे पर सरकार लिखूँ मैं ,
सड़क के इस ओर चलता कर-मुक्त योग का व्यापार लिखूँ या ,
उस पार मज़बूरी में चलता लाल बाज़ार लिखूँ मैं ,
अब पैकेट बंद पत्तियों का दाम लिखूँ या नंगे जिस्मों का भाव लिखूँ मैं।
लिखने बैठूँ तो समझ ना आए क्या लिखूँ मैं।

उसके नाम पर एक पैगाम लिखूँ या यह ख़त यूँही बेनाम लिखूँ मैं ,
ऐसे ही लिखदूँ मौसम का हाल उसे या
हाल-ए-दिल ब्यान करते उसके इश्क़ का अंजाम लिखूँ  मैं ,
उसपे लिखूँ उसका नाम और घर का पता या कब्रिस्तान में सरु के पेड़ का निशान लिखूँ मैं।
लिखने बैठूँ तो समझ ना आए क्या लिखूँ मैं।
इस काफ़िर दिल की ज़ुबान लिखूँ या आस्तिक दुनिया की दास्तान लिखूँ मैं।
लिखने बैठूँ तो समझ ना आए क्या लिखूँ मैं । ।

Likhne bethu to samaz na aaye kya likhun main ,

Teri mehfil ki shahnai likhun ya apni mehfil ki tanhai likhun main ,
Umar bhar jo tu karta rha is Joker se , wo wafa likhun ya ,
Us ek pal ki bewafai likhun main ,
Hote dekh begana muh se nikli dua likhun ya dil se nikli aah likhun main ..
Likhne bethu to samaz na aaye kya likhun main ...

Us khuda ki kudrat likhun ya insan ki fitrat likhun main ,
Jiske beh gye sab khwaab paseene mein , us gareeb ki mehnat likhun ya ,
Kisi raees baap ke bete ki kismat likhun main ,
Ab btao uski rehmat likhun ya fir beinsaf saza likhun main ..
Likhne bethu to samaz na aaye kya likhun main ...

Desh mein arth-vyavstha ki maar likhun ya videshi daure par sarkar likhun main ,
Sadak ke is aur chalta kar-mukt yog ka vyapar likhun ya ,
Us paar majburi mein chalta laal bazar likhun main ,
Ab packet band pattiyon ka daam likhun ya nange jismon ka bhaav likhun main ..
Likhne bethu to samaz na aaye kya likhun main ...

Uske naam par ek paigam likhun ya yeh khat yunhi benaam likhun main ,
Aise hi likhdun mausam ka haal use ya ,
Haal-e-dil byan karte uske ishq ka anjaam likhun main ,
Uspe likhun uska naam aur ghar ka pata ya kabirstan mein saru ke pedh ka nishan likhun main ..
Likhne bethu to samaz na aaye kya likhun main ...
Is kafir dil ki zubaan likhun ya aastik dunia ki daastan likhun main ..
Likhne bethu to samaz na aaye kya likhun main ...

No comments:

Post a comment

Thanks for your valuable time and support. (Arun Badgal)

Follow by Email-desc:Subscribe for Free to get all our newest content directly into your inbox.