Amazon

Sunday, 16 July 2017

HINDUSTAN

Hindustan - Alfaz4Life
https://youtu.be/aYwi1v3A0ds

कौन हैं यह लोग ? क्या लगते हैं यह मेरे ?
क्यों लिखूँ इन पर कोई गीत ? क्या लेना मुझे इन सबसे ?
क्या लेना मुझे बंगाली गुजराती मराठी और इस हिंदुस्तान से ?
पर जब भी कलम चलती है तो एक हमदर्दी सीख जाता हूँ ,
ना चाहते हुए भी इन सब के दर्द लिख जाता हूँ ,
और यह दर्द भी किसी और के नहीं मेरे अपने हैं ,
जो गुजरात की आँखों से टूटे वो मेरे सपने हैं ,
कैसे लिखूँ क्या हर पल मेरे संग घटता है ,
जैसे भोपाल के सीने से कोई जवालामुखी फटता है ,
इस सरकार और क़ानून की तरह मुझे भी नंगा कर जाती है ,
जब ज़हरीली कोई गैस मासूम लोगों को अँधा कर जाती है ,
मर जाता हर बार वो मासूम जो मेरे दिल के अंदर पलता है ,?
जब भी कभी पंजाब यह जलता है ,
या नशे की आड़ में जब किसी माँ का सुबह का सूरज ढलता है।
अब भी पूछेंगे यह लोग क्या गया तेरा इन सब में ,
जो तू गीत इन पर लिखता है ,
कैसे बताऊँ यह सब मेरा है जो खुली आँख से दिखता है ,
जो हाथों से छूटे वो हाथ मेरे थे , जो बदन से फटे वो दामन मेरे थे ,
जो सड़कों पर लूटी गई वो आबरू मेरी थी ,
जिस पर हुए लाखों सितम् वो बाबरी मेरी थी ,
जो फाँसी पर चड़े वो सब वीर मेरे थे ,
जो हर एक आँख से बहे वो नीर मेरे थे ,
यह सब लोग यह मज्मे यह सारा जहान मेरा है ,
पंजाबी गुजराती बंगाली मराठी यह सारा हिंदुस्तान मेरा है।

Hindustan - Alfaz4Life
https://youtu.be/aYwi1v3A0ds

(Kaun hain yeh log ? kya lagte hain yeh mere ?
 Kyun likhun in par koi geet ? kya lena mujhe in sab se ?
 Kya lena mujhe Bengali Gujrati Marathi aur is Hindustan se ?
 Par jab bhi kalam chalti hai to ek humdardi seekh jaata hun ,
 Na chahte huye bhi in sab ke dard likh jaata hun ,
 Aur yeh dard bhi kisi aur ke nahi mere apne hain ,
 Jo Gujrat ki aankhon se tute wo mere sapne hain ,
 Kaise likhun kya har pal mere sang ghat`ta hai ,
 Jaise Bhopal ke seene se koi jawalamukhi phat`ta hai ,
 Is sarkar aur kanoon ki trah mujhe bhi nanga kar jati hai ,
 Jab zehreeli koi gas masoom logon ko andha kar jati hai ,
 Mar jaata har baar wo masoom jo mere dil ke ander palta hai ,
 Jab bhi kabhi Punjab yeh jalta hai ,
 Ya nashe ki aarh mein jab kisi maa ka subah ka suraj dhalta hai ,
 Ab bhi puchenge yeh log kya gya tera in sab mein ,
 Jo tu geet in par likhta hai ,
 Kaise bataun yeh sab mera hai jo khuli aankh se dikhta hai ,
 Jo haathon se chhute wo haath mere the , Jo badan se phate wo daaman mere the ,
 Jo sadkon par looti gyi wo aabroo meri thi ,
 Jis par huye laakhon sitam wo babri meri thi ,
 Jo fansi par chade wo sab veer mere the ,
 Jo har ek aankh se bahe wo neer mere the ,
 Yeh sab log yeh majme yeh sara jahaan mera hai ,
 Punjabi Gujrati Benagli Marathi yeh sara Hindustan mera hai ... )

Hindustan - Alfaz4Life
https://youtu.be/aYwi1v3A0ds

No comments:

Post a Comment

Thanks for your valuable time and support. (Arun Badgal)