Amazon

Wednesday, 14 November 2018

KABHI RUKNA NAHI ......

आज 14 नवम्बर बाल दिव्स पर अपने देश के भविष्य के लिए लिखी हुई एक कविता आप सबके साथ सांझी कर रहा हूँ , उम्मीद है यह कविता आज उदय होने वाले सूरज को एक नई रौशनी देगी।

यह रास्ते तुम्हारे हैं , यह मंज़िल तुम्हारी है ,
कभी रुकना नहीं ......
यह ज़िन्दगी तुम्हारी है, यह दुनिया तुम्हारी है ,
कभी रुकना नहीं ......

माना कि मिलेंगे तुम्हें रोकने के लिए लाखोँ यहाँ ,
लेकिन यह खेल तुम्हारा है , यह जीत तुम्हारी है ,
कभी रुकना नहीं ......

नई सोच तुम हो , नया ज़माना तुम हो ,
कभी रुकना नहीं ......
ज़ज़्बा तुम हो , ईरादा तुम हो ,
कभी रुकना नहीं ......

गुज़र गए वो जिनका वो कल था ,
लेकिन आज तुम हो , आने वाला कल तुम हो ,
कभी रुकना नहीं ......

छोटी सी उम्र से , छोटी सी नज़र से ,
देखी यह दुनिया , सही यह दुनिया ,
लेकिन याद रखना ......

खुदी तुम हो , खुदा तुम हो ,
कभी किसी के आगे झुकना नहीं।
हर सपना तुम्हारा है ,हर ज़रिया तुम हो ,
कभी रुकना नहीं ......
कभी भी रुकना नहीं ......

No comments:

Post a Comment

Thanks for your valuable time and support. (Arun Badgal)