AE ZINDAGI

ऐ ज़िंदगी क्या बताऊँ !
तुझे ज़िंदगी भर कैसे जीता रहा हूँ मैं ,
दुनिया भर से मिलता रहा
लेकिन तुझी से बिछड़ा रहा हूँ मैं ,
ऐ ज़िंदगी क्या बताऊँ !
तुझे ज़िंदगी भर कैसे जीता रहा हूँ मैं ।

एक दौड़ थी ज़माने की
और जी-जान से भागा मैं ,
सारी दुनिया से अव्वल
लेकिन खुदी से पिछड़ा रहा हूँ मैं ,
ऐ ज़िंदगी क्या बताऊँ !
तुझे ज़िंदगी भर कैसे जीता रहा हूँ मैं ।

लोगों के मजमों में
अपना एक नाम सा कर लिया ,
हर जलसे की रौनक
लेकिन दिल की महफ़िल में उजड़ा रहा हूँ मैं ,
ऐ ज़िंदगी क्या बताऊँ !
तुझे ज़िंदगी भर कैसे जीता रहा हूँ मैं ।

मेरी कलम परिंदा
और कागज़ आसमान था मेरा ,
अल्फ़ाज़ फड़-फड़ाते रहे मेरे
लेकिन लकीरों में लड़-खड़ाता रहा हूँ मैं ,
ऐ ज़िंदगी क्या बताऊँ !
तुझे ज़िंदगी भर कैसे जीता रहा हूँ मैं ।

समझने की कोशिश में
तुझे जीना ही भूल गया मैं ,
तुझे सुलझाता रहा
लेकिन खुदी में कहीं उलझा रहा हूँ मैं ,
ऐ ज़िंदगी क्या बताऊँ !
तुझे ज़िंदगी भर कैसे जीता रहा हूँ मैं ।
ऐ ज़िंदगी क्या बताऊँ !
तुझे ज़िंदगी भर कैसे जीता रहा हूँ मैं ।।

No comments:

Post a comment

Thanks for your valuable time and support. (Arun Badgal)

Follow by Email-desc:Subscribe for Free to get all our newest content directly into your inbox.