EK ILTIJA

देखो जब सारी बातें ख़तम हो गई, तो कहने को कुछ बाकी नहीं है ,
पर फिर भी एक बात कहना चाहता हूँ तुझसे कि ,
फुरसत के पलों में कभी मिलना ना मुझसे ,
क्यूँकि सवाल बहुत हैं , बवाल बहुत हैं , उभर आएंगे।

यकीन करना मेरे किसी भी सवाल का तुम्हारे पास जवाब नहीं होगा ,
मेरे शिकवों और तुम्हारी मजबूरीओं का कोई हिसाब नहीं होगा ,
दिल की कचहरी में बेबसी की गवाही से इन्साफ नहीं होगा ,
और हाँ, वो रात जो कुछ सेहमी सी थी ,जिस में तू कुछ बहकी सी थी ,
और हाँ, मेरी भी सांस कुछ सहकी सी थी ,
शरेआम ना हो जाये कहीं हर पल तू डरी रहती सी थी ,
निकाल देना वो डर  भी अपने मन से ,
क्यूँकि वो पल कभी भी बेनक़ाब नहीं होगा ,
पर फिर भी तू फुरसत के पलों में कभी मिलना ना मुझसे ,
क्यूँकि सवाल बहुत हैं , बवाल बहुत हैं , उभर आएंगे।

यकीन करना तेरे सामने मुझसे रहा नहीं जायेगा ,
खुद को रोक नहीं पाऊँगा मैं ,
ऊँची आवाज़ में कुछ कहा नहीं जायेगा ,
आँखों को बहने से रोक नहीं पाऊँगा मैं ,
यकीन करना तुझसे भी यह सब देखा नहीं जायेगा ,
मेरी तरह ही खुद को रोक नहीं पायेगी तू  ,
गले से लगा के मुझे मेरे आँसू पोंछ के ,
मेरा माथा चूमने से खुद को रोक नहीं पायेगी तू  ,
और हाँ, वो जो तेरे कदम , जो एक बार पहले भी भटक चुके हैं ,
यकीन करना इस बार भी उन्हें भटकने से रोक नहीं पायेगी तू  ,
और हाँ, पिछली बार जो सह गया था मैं , इस बार सहा नहीं जायेगा,
खुद खुदी से नफरत करने से खुद को रोक नहीं पाऊँगा मैं ,
सो ख़ुदा के लिए, अपने लिए , मेरे लिए , हमारे लिए ,
तू फुरसत के पलों में कभी मिलना ना मुझसे ,
क्यूँकि सवाल बहुत हैं , बवाल बहुत हैं , उभर आएंगे।



(Dekho jab sari baatein khatam ho gyi hai to kehne ko kuch baaki nai hai,
 Par phir bhi ek baat kehna chahta hu tujhse ki,
 Fursat ke palon mein kabhi milna na mujhse ,
 Kyuki sawaal bahut hai, bawaal bahut hai, ubhar aayege..

 Yakeen karna mere kisi bhi sawaal ka tumhare paas jawaab nai hoga,
 Mere shikvon aur tumhari majburion ka koi hisaab nai hoga,
 Dil ki kachehri mein bebasi ki gawaahi se insaaf nai hoga,
 Aur haan, wo raat jo kuch sehmi si thi, jis mein tu kuch behki si thi,
 Aur haan, meri bhi saans kuch sehki si thi,
 Shareaam na ho jaye kahin har pal tu dari rehti si thi,
 Nikaal dena wo darr bhi apne mann se,
 Kyuki wo pal kabhi bhi benaqaab nai hoga,
 Par phir bhi tu fursat ke palon mein kabhi milna na mujhse,
 Kyuki sawaal bahut hai, bawaal bahut hai, ubhar aayege..

 Yakeen karna tere saahmne mujhse raha nahi jayega,
 Khud ko rok nahi paunga main.
 Unchi awaaz mein kuch kaha nahi jayega,
 Aankhon ko behne se rok nahi paunga main.
 Yakeen karna tujhse bhi yeh sab dekha nahi jayega,
 Meri tarah hi khud ko rok nahi payegi tu,
 Gale se lga ke mujhe mere aansu ponch ke,
 Mera maatha chumne se khud ko rok nahi payegi tu.
 Aur haan, wo jo tere kadam, jo ek baar pehle bhi bhatak chuke hain,
 Yakeen karna is baar bhi unhein bhatakne se rok nahi payegi tu.
 Aur haan, pichli baar jo seh gya the main, is baar saha nahi jayega.
 Khud khudi se nafrat karne se khud ko rok nahi paunga main.
 So Khuda ke liye, apne liye, mere liye, hamare liye,
 Tu fursat ke palon mein kabhi milna na mujhse,
 Kyuki sawaal bahut hai, bawaal bahut hai, ubhar aayege..... )

2 comments:

Thanks for your valuable time and support. (Arun Badgal)

Follow by Email-desc:Subscribe for Free to get all our newest content directly into your inbox.