SAFAR

कई बार सोचता हूँ कि यह सफ़र कभी खत्म ही ना हो ,
ईन रास्तों की कोई मंज़िल ही ना हो ,
मैं रुकूँ किसी मोड़ पर ऐसा कोई मंज़िर ही ना हो ,
मैं चलता रहूँ आँखों में एक सबर लिए ,
पायों में काँटों की चुबन लिए ,
और होठों पर ` शिव `की कोई नज़म लिए ,
और हकीकत में चलते-चलते ऊन रास्तों पर ,
हकीकत से महज़ एक ख़्वाब हो जाऊं ,
सब आते-जाते हम-राहीओं में ज़िक्र की एक बात हो जाऊं ,
ईस क़दर हो जाये इन रास्तों से मेरी दिल-लगी ,
कि ईन रास्तों की ख़ाक में ही ख़ाक हो जाऊं।
कई बार सोचता हूँ कि यह सफ़र कभी खत्म ही ना हो ,
ईन रास्तों की कोई मंज़िल ही ना हो।

* शिव - शिव कुमार बटालवी


( Kai baar sochta hun k yeh safar kabhi khatam hi na ho,
  In raaston ki koi manzil hi na ho,
  Main rukun kisi morh pe aisa koi manzir hi na ho,
  Main chalta rahun ankhon mein ek sabar liye,
  Paon mein kaanton ki chuban liye,
  Aur honthon par `Shiv` ki koi nazam liye,
  Aur haqiqat mein chalte-chalte un raaston par,
  Haqiqat se mehaz ek khawaab ho jaun,
  Sab aate-jaate hum-raahion mein zikr ki ek baat ho jaun,
  Is kadar ho jaye in raaston se meri dil-lagi ,
  Ke in raaston ki khaak mein hi khaak ho jaun,
  Kai baar sochta hun k yeh safar kabhi khatam hi na ho,
  In raaston ki koi manzil hi na ho.... )

* Shiv - Shiv Kumar Batalvi

No comments:

Post a comment

Thanks for your valuable time and support. (Arun Badgal)

Follow by Email-desc:Subscribe for Free to get all our newest content directly into your inbox.